uptet परीक्षा में धोखाधड़ी के आरोप में shiksha mitra गिरफ्तार

Shiksha Mitra Latest News at updatemart primary ka master

Uptet परीक्षा में धोखाधड़ी के आरोप में shiksha mitra तथा सहायक अध्यापक गिरफ्तार।
यह मामला उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले का है जहां उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा uptet जो कि 8 जनवरी 2020 में संपन्न कराई गई थी।
Shiksha Mitra latest news uptet blogger

उक्त uptet परीक्षा में साल्वर (जो दूसरे व्यक्ति के स्थान पर परीक्षा देता है) बैठाने के मामले में सहायक अध्यापक और shiksha mitra को गिरफ्तार कर निलंबित कर दिया गया है। इसके अलावा उक्त शिक्षा मित्र shiksha mitra की सेवा भी समाप्त कर दी गई है।

uptet blogger 2020 exam shiksha mitra news today

संतोष कुमार यादव और भीम शंकर दोनों एक ही प्राथमिक विद्यालय उमरी खुर्द में शिक्षक के पद पर तैनात हैं। संतोष कुमार सहायक अध्यापक है जबकि भीम शंकर उसी विद्यालय में शिक्षा मित्र shiksha mitra के रूप में कार्यरत है। दोनों को पुलिस ने यूपी टेट की परीक्षा में धोखाधड़ी करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है।

ये भी पढ़ें - बेसिक शिक्षा न्यूज़ यूपी की ताज़ा खबर

भीम शंकर और संतोष दोनों पर पुलिस ने आरोप लगाया है कि दोनों शिक्षक पात्रता परीक्षा UPTET में धांधली करने की कोशिश कर रहे थे। शिक्षक पात्रता परीक्षा में शामिल अभ्यर्थियों को परीक्षा में पास कराने का भरोसा देकर उनसे पैसे ठगे और परीक्षा में उन अभ्यर्थियों के स्थान पर सॉल्वर गैंग को परीक्षा देने के लिए बैठा दिया।

Shiksha Mitra caught by police

जब एसटीएफ की टीम परीक्षा केंद्र पर पहुंची तब सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश हुआ। बाद में पुलिस ने इस सॉल्वर गैंग पर धोखाधड़ी और साजिश के तहत केस दर्ज किया तथा इनको जेल में डाल दिया और उनके पास से मोबाइल और पैसे बरामद कर लिए।

According to Basic shiksha Adhikari

 जिला Basic shiksha adhikari डॉ राजेंद्र सिंह के अनुसार सहायक पद पर कार्यरत संतोष कुमार यादव को सहायक अध्यापक के पद से निलंबित कर दिया गया है। shiksha mitra पद पर कार्यरत भीम शंकर की सेवा समाप्त कर दी गयी है।

फर्जीवाड़े में पकड़े गए सभी 8 लोगों को पोलिस द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। ऐसे अभ्यर्थी जिन्होंने पेपर सॉल्वर की मदद ली उनके खिलाफ भी जांच शुरू की जाएगी तथा जांच में दोषी पाए जाने पर उचित कार्यवाही की जाएगी।

सबसे मजेदार बात तो यह है कि सालवर यानी जो दूसरे के स्थान पर परीक्षा दे रहा था वह व्यक्ति सिर्फ इंटर पास है जबकि जिस व्यक्ति के स्थान पर यह परीक्षा दे रहा था वह m.a. और नेट पास है। कहने का तात्पर्य है कि m.a. और नेट पास अभ्यर्थी सेंटर पर इंटर पास सॉल्वर से अपने प्रश्न पत्र हाल करवा रहा था।

पुलिस की पूछताछ में एक और मजेदार बात सामने आई कि सालवर गैंग के किसी भी सदस्य ने अपने लिए किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में भाग नहीं लिया क्योंकि यह लोग सिर्फ 10वीं या इंटर पास करके अभ्यर्थियों को ठगने का काम करते हैं।

फॉलो करें
updatemart primary ka master, basic shiksha parishad news, uptet ctet notes, primary ka master current news today, basis shiksha latest news in up के लिए आप मुझे फॉलो भी कर सकते हैं।

Post a Comment

0 Comments