11.60 लाख अभ्यर्थी शिक्षक भर्ती परीक्षा में अपात्र - updatemart

11.60 लाख अभ्यर्थी शिक्षक भर्ती परीक्षा में अपात्र

• शिक्षक भर्ती का पहला पड़ाव नहीं पार कर पाए कई अभ्यर्थी
• कई वर्षों से विद्यालय में पढ़ा रहे शिक्षक और शिक्षा मित्र भी हुए फेल

सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी अनिल भूषण चतुर्वेदी ने कहा कि "यूपीटीईटी परीक्षा में तय मानकों पर नकलविहीन कराई का रही है, कॉलेजों में बेहतर पढ़ाई करानी होगी तभी रिजल्ट में सुधार देखने को मिलेगा।"

Uptet exam

एक लाख से अधिक ने छोड़ी यूपीटीईटी परीक्षा

यूपीटीईटी परीक्षा के लिए 1656338 अभ्यर्थियों ने पंजीकृत कराया था जिनमें से 141622 अभ्यर्थियों ने परीक्षा छोड़ दी थी। 1514716 अभ्यर्थी यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल हो पाए थे इनमें से सिर्फ 354703 ही पास हो पाए।

बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों पर शिक्षक बनने के सपने देखने वाले 1160000 अभ्यर्थी शिक्षक भर्ती का पहला पड़ाव भी नहीं पार कर पाए। ये अपात्र हुए अभ्यर्थी अब शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में आवेदन नहीं कर पाएंगे।

फेल होने वालों में शिक्षक व शिक्षामित्र भी शामिल

सबसे बड़े आश्चर्य की बात तो यह है कि फेल होने वाले अभ्यर्थियों में कई ऐसे अभ्यर्थी हैं जो अनेकों वर्षों से प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षक एवं शिक्षा मित्र के रूप में छात्रों को पढ़ा रहे हैं।


यूपीटीईटी 2019 का रिजल्ट पिछले वर्ष की तुलना में 5% तक कम रहा, इसने इस बात की मुहर लगा दी कि अभ्यर्थियों की तैयारियां दुरुस्त नहीं थी। यूपी टीईटी परीक्षा 2011 से कराई जा रही है लेकिन अभी तक रिजल्ट 30% से ऊपर नहीं गया है।

यूपीटीईटी में एनआईओएस को किया अमान्य

यूपीटीईटी 2019 की परीक्षा में एनआईओएस से डीएलएड करने वाले अभ्यर्थियों का ओएमआर शीट नहीं जांचा गया है क्योंकि राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद ने एनआईओएस से डीएलएड को अभी मान्य घोषित नहीं किया है।


अगर एनआईओएस से डीएलएड करने वाले अभ्यर्थियों का ओएमआर शीट जांचा गया होता तो शाaaयद यूपीटीईटी 2019 का रिजल्ट 30% से अधिक होता। 

1.4 लाख अभ्यर्थियों ने छोड़ी परीक्षा जबकि 11.60 लाख अभ्यर्थी हुए फेल, ये अभ्यर्थी नए आयोग की प्राथमिक शिक्षक भर्ती में नहीं हो पाएंगे शामिल।

Post a Comment

0 Comments